Category: AAP BANARASI HAI

बातकेवल गलियों कीनहीं

Posted By : admin/ 295 0

बातकेवल गलियों कीनहीं है, न केवल मंदिरों कीऔर न ही केवल घाटों की | सचकहूँ …..ये सारा शहर हीबाहों में बाहें डालकर चल देता है …गरल सखी की तरह | साथ में दौड़ता है, लड़खड़ता है, हँसता है, रोता है औरकभी-कभी मजे भी ले लेता है फिर उस बनारसी गाली के साथ पान में सने पीले दांत चियार देता है | मुझे आज भी याद है स्टेशन पर पहले दिन का उतरना | एकऊटपटांग सा शहर आपका स्वागत करता है | इस स्वागत में साराबनारससिमटआताहै | चीर-हरण जैसे शब्द तो यहाँ है ही नहीं पर इस शहर में क़दम रखते ही आपका बुद्धि-हरण प्रारंभ हो जाता और कुछ दिन के बाद बौद्धिक होते हुए भी आप बौद्धिक नहीं बनरसिया हो जाते है | शरीरकी एक-एक नश इस शहर की एक-एक गली पर बिछ जाती है| अब आप फर्क खोजते है अपने में और शहर में…..गलियोंमें, मंदिरोंमें, घाटोंमें| ….बहुत कठिन होता है ये फर्क खोजना और यहाँ से अलग होना | मुझे आज भी याद है वहाँ की आखिरी ट्रेन | ट्रेन धीरे-धीरे चलती है | आज फिर सारा शहर सिमटता है …..एस बार स्वागत में नहीं विदाई में | खिड़की से मुझे…दिखता है… ये सारा शहर बाहें फैलता है ….गरल सखी की तरह….. खिड़की पकड़ के दौड़ता है,लड़खड़ता है, हँसनाभीचाहता है औरफिर घुटनों पर टूटकर रोताहै | मैं अभी तक खिड़की से देख रहा हूँ कि शायदएक बार फिरउस बनारसी गाली के साथ पान में सने पीले दांत चियार दे !

बनारस में हरसुबह

Posted By : admin/ 241 0

बनारस में हरसुबह कथाओं के साथ होती है | सूरज रोज ढेर सारी कथाएं बनारस में छिड़क देता है | ये कथाएंसबसे पहले घाटों पर बरसती है | सूरज के साथ उगने वाली ये कथाएं कभी अस्त नहीं होती | सच में कथाएं अस्त होती ही नहीं है …बस धूमिल हो जाती है | बनारस की कथाएं धूमिल भी नहीं होती | यहाँमहादेव,हरिश्चन्द्र, कबीर, सबकी कथाएं टहलती हैं या किसी चाय की दुकान पर सुड़की जा रही होती है | उसे नीला रंग बहुत पसंद था| उसनेकभी नहीं माना की पानी का कोई रंग नहीं होता | अक्सर बहती गंगा की ओर उंगली उठाकर कहती थी “देखो पानी नीला होता है |” मुझेनहीं पता की लोग पानी का रंग नीला क्यूँ देखना चाहते हैं ? शायद इसलिए कि किसी ने आँखों को नीला कह दिया था | जाड़ों में गंगा सबसे ज्यादा नीली होती है …. जाड़ों में वह भी बहुत सुंदर हो जाया करती थी | उस रोज भी सूरज ढेर सारी कथाएं लेकर उगा था | सारी कथाएं छिड़क दी थी …औरएक बूँद मुझ पर भी पड़ी थी| मैं घाट पर समूचे बनारस सा खड़ा था … और वह गलियों सी लिपटी थी | मैंने उस दिन देखा था उसके आँसू नीले नहीं थे |  बहती गंगा की ओर उंगली उठाकर कह रही थी “देखोपानी हरा होता जा रहा है |” सच में पानी हरा होता जा रहा था … मैं बस बनारस सा खड़ा था जैसे की बनारस था ही नहीं | गंगा बस बह रही थी जैसे कि वह गंगा थी ही नहीं…… जैसे कि वह लिपटी थी ही नहीं …जैसे कि वह गंगा में हीसमा गई थी ….| मैं अभी तक घाट की सबसे ऊपर की सीढ़ी पर बैठा हूँ | वह अक्सर बरसात में बढ़ने लगती है | सीढ़ियाँचढ़ने लगती है | मुझतक पहुँचना  चाहती है | शायद कहना चाहती है कि“ऐमेरे बनारस मुझे नीला कर दो |”

पापा तुम सच में….

Posted By : admin/ 187 0

I know that you will not be able to read all this on Facebook. Father’s Day is just like the excuse …. There is a lot to say … I can never say anything on the front. Because you have neither the courage nor the ability to say thank you. ………. Papa, you are really banyan standing in the middle of the courtyard, in which all the house lives in the shade. I could also say that you are the people of the yard … but no .. Pipalpodi sounds like a breeze in the air … and you are completely silent … serious …. even in the windshield … Like the old banyan One thing I have come to know. You are very drunk … tears of tears | There have been many such situations that all of us have been broken …. We all cried .. do not allow your eyes to dampen. Ever alone, if separated by tearing two tears … At present our family is never in front. That’s why I say you are a big drinker. You want to fulfill all your obligations but one obstacle comes … money. I remember many times I insisted on something … and you did not even want to give it. Then you looked helpless in your eyes. But what do you say … you have always used the helplessness to explain it with love. You are the biggest convertor. Here also you took a sip of helplessness. Only then do you say you are very drunk. During the study, many positive effects came … then you did not jump on the phone happily. “Good .. and read from the hard work” and when many times dropped from the dhamma result … .. then afraid of calling I was able to tell how to tell ……. But you had only said after my silent silence “no matter … and read from the hard work.” You are a big fatwasel speaker .. “Good. There is a lot of time to sit down with you and look at “Pursuits off Happiness” and interact with you and say that you have good papa even with “Will Smith”. Was going … you had called every 12 hours on every two hours. Frankly, I was very angry when you were calling this number so often. I was thinking that now it grew up … then why it was necessary to worry so much. You call me stubborn. You are the biggest stubborn person. You did not leave the chase until the hostel and then stopped calling when it reached the room. In many circumstances of the hypocrisy .. I screamed at you too … you were silent. Then I shouted when I thought I grew up … and you were quiet. Make a request to you … you never consider me to be big. After all these are slap bonuses you have. You never consider me to be big. After all these are slap bonuses you have. You never consider me to be big. After all these are slap bonuses you have. In the 12-hour road you had called every two hours. Frankly, I was very angry when you were calling this number so often. I was thinking that now it grew up … then why it was necessary to worry so much. You call me stubborn. You are the biggest stubborn person. You did not leave the chase until the hostel and then stopped calling when it reached the room. In many circumstances of the hypocrisy .. I screamed at you too … you were silent. Then I shouted when I thought I grew up … and you were quiet. Make a request to you … you never consider me to be big. After all these are slap bonuses you have. In the 12-hour road you had called every two hours. Frankly, I was very angry when you were calling this number so often. I was thinking that now it grew up … then why it was necessary to worry so much. You call me stubborn. You are the biggest stubborn person. You did not leave the chase until the hostel and then stopped calling when it reached the room. In many circumstances of the hypocrisy .. I screamed at you too … you were silent. Then I shouted when I thought I grew up … and you were quiet. Make a request to you … you never consider me to be big. After all these are slap bonuses you have. You are the biggest stubborn you are. You did not leave the chase until the hostel and then stopped calling when it reached the room. In many circumstances of the hypocrisy .. I screamed at you too … you were silent. Then I shouted when I thought I grew up … and you were quiet. Make a request to you … you never consider me to be big. After all these are slap bonuses you have. You are the biggest stubborn you are. You did not leave the chase until the hostel and then stopped calling when it reached the room. In many circumstances of the hypocrisy .. I screamed at you too … you were silent. Then I shouted when I thought I grew up … and you were quiet. Make a request to you … you never consider me to be big. After all these are slap bonuses you have.

खूबसूरत

Posted By : admin/ 196 0

तुम पुलों में “विश्वसुन्दरी” हो, खूबसूरत, ऐतिहासिकऔर मैं रामनगर का निर्माणाधीन पुल | लेकिन एक बात लिख लो ………तुम्हारेमें अब बस परिवर्तन हो सकता है या विध्वंस लेकिन मेरा निर्माण शेष है | लोगों का ज्यादा ध्यान मुझपर है | मैंबनारसियों और रामनगरियों को तुमसे बेहतर जोड़ता हूँ | लोग मेरे “पीपा” स्वरूप को भी स्वीकार करते हैं | अब भी कहते हैं स्वीकार कर लो !

मैंवैसे भी हरिश्चन्द्र घाट जैसा सुलग रहा थाऔर तुम चाय का जज्बाती कुल्हड़ हमारे ही ऊपर पटक के चल पड़ी | हमें पता है तुम घाटों में “अस्सी” होऔर मैं “मणिकर्णिका” | तुम्हारे अनुसार हमारा कोई मेल नहीं है, लेकिन गंगा भी “अस्सी” से“मणिकर्णिका” की ओर बह रही है | तुम भी किसी दिन बहोगी भावनात्मक गंगा में …. और ये भी सुन लो जिंदगी के सारे बहाव अस्सी से लेकर मणिकर्णिका तक समाप्त हो जाते हैं |मैं गंगा में पैर डुबाये वही पर घाट किनारे बैठा हूँ …तुम्हें सहारा देने के लिए ! आओ तो !

समय कई बार घाव देता है

Posted By : admin/ 214 0

Time wounds many times. Time also heals wounds. Benares have a wound given by time to get away from Banaras. Ghats, the melodies caused by the lanes, these wounds severely on the wound. Painful poke. Not that it does not wound. In the busy life and lap of other cities, the wound is filled. Time also fills it but memories overwhelm this wound cutter. Being Ekanbarsi in another city means that comparison of everything from the other city to Benaras. In every thing he searches for Benaras. When the wheel of the bike hits the road for the first time in the crowded city, then it comes to Benareside. Whenever he has to go to artificial park to sit in peace, then he remembers Benaras. When he gets potato instead of chickpea in golguppe, if he gets lime, then he remembers Benaras. Frankly, Some wounds do not even fill the time. During this, when someone asks him, “What is it like in Banaras?” Ekbarawasi does not have an answer. He gets a little bit tired and a tide bursts from inside “Master! There is a different thing in Benaras. “He just gives a lot of answers. There is no mistake in this. Pain, emotions, sensations can not be expressed by words. “There is a different thing in Benaras” in this sentence, the world of a Banarasi is limited. In this sentence Kabir, Baldev, Gopinath, Premchandra, Jaishankar Prasad, Wagish, Virbhadra are contained. In this sentence, the rituals of Malaviya are wrapped in. In this sentence, there are lanes of Banaras that have fallen into its addiction. These lanes are as sharp as the corners of the street, and yet no Benaras is standing to get a glimpse of any kind. In this sentence there are ghats on which an uncommon part of life has run, played is sitting. …. and the clarinet of Ustad Bismillah on these ghats, Ashutosh Bhattacharya and Kishenamahajka Tabla, Ravi Shankar’s sitar, Birjuamaharajakekathak’s jugalbandi. Yes! In this sentence a life of kathak is limited. Something different from Benaras is different.

ईद मुबारक

Posted By : admin/ 256 0

ईद की सारी यादें “ईदगाह” से ताज़ा हो जाती हैं | ईदगाह वो सिगरा वाला नहीं …. प्रेमचंद की कहानीवाला ईदगाह….चिमटे की कहानी वाला ईदगाह …| प्राइमरी की क्लास में मास्टर जी ईदगाह कहानी उसी से पढ़वाया करते थे …. “तुम्हारी उँगलियॉँ तवे से जल जाती थीं, इसलिए मैने इसे लिया|” इतनापढ़कर वो अक्सर रो दिया करती थी….और मैं हँस दिया करता था …फिर मास्टर जी के जाने के बाद झगड़ा तय था | ऐसा नहीं कि वो कहानी पढ़कर मैं रोया नहीं ….या आप में से किसी ने पढ़ी हो और वो रोया न हो …. लेकिनक्लास में उसके सामने अपने आप को वैसे ही संभालता था जैसे हामिद ने चिमटा लेने के बाद खुद को संभाला था | आज फिर से ईद आई है | महमूद, मोहसिन, नूरे, सम्मी सब उतना ही खुश है | सब उतना ही भाग रहे है ….सब उतना ही उछल रहे हैं…कोई पात्र नहीं बदला है ….कई“अमीना” घरदूर हमीदों का इंतजार कर रही है ….हामिद का घर से दूर होना उसे कचोट रहा है लेकिन ईद की ख़ुशी ने सब ढांप रखा है |…सभी के साथ मैं भी बहुत खुश हूँ …लेकिनलेकिन कई साल पहले की ईद आज तक जेहन में कैद है….प्राइमरी क्लास के बहुत दिनों बाद वो पंचगंगा घाट पर मिली थी…मैंने पहली बार घाट पर चाँद को टहलते हुए देखा था ….| जबघर में सभी लोग ईद मिल रहे होते …मैं पंचगंगा घाट पर होता हूँ …..मैं हर ईद को इसी घाट पर होता हूँ …इस आस में कि आसमान से कोई सीधी उतरती दिख जाए … चाँद के पास में वो जो छोटा सा तारा होता हैं न मेरा बहुत मजाक उडाता है ….लेकिन मुझे आज भी याद है ..जब उसने उँगलियों को माथे पर छुआ कर कहा था… “ईद मुबारक”

शायद यह जानने

Posted By : admin/ 189 0

शायद यह जानने के लिए शाम को पतंगे और ज्यादा ऊंचाई पर उड़ जाती है कि सूरज किसके पीछे छिप रहा है ……या फिर यह भी हो सकता है कि पतंग एक नज़र में सारे बनारस को देख लेनाचाहती हो | वह हर गली के ऊपर घूमना चाहती हो| वह हर बनारसी के आँगन में झांकना चाहती हो | हर एक मंदिर की पताका के साथ लहराना चाहती हो या फिर अज़ान के साथ लयबद्ध होकर पसर जाना चाहती हो | यह कोई एक पतंग नहीं है .. ढेर सारी पतंगे है …ढेरसारे रंग हैं…उड़ने के अलग तरीके है…लेकिन अंततः सभी का ढंग बनारसी हो जाता है | मेरी भी एक अलग रंग की पतंग है…बनारस में | घाटों के ऊपर घाटों के साथ बहुत ऊंची उड़ान भरी इसने | ..फिर एक दिन बनारस दूर हो गया और ये कमबख्त पतंग आज तक अस्सी घाट के पीपल में अटकी हुई है ( उलझी नहीं है ) ….और एक बनारसी डोर ने मुझे इससे बांध रखा है ….हर वक्त | सच कहूँ …ये पतंग मेरा मन है ….हर उस बनारसी का मन जो बनारस से दूर है |

वोअस्सी घाट था

Posted By : admin/ 215 0

वोअस्सी घाट था जहाँ पर मन जेब के सिक्के की तरह निकल कर खन्न से लुढ़क गया था |……..घाट की सबसे ऊपर वाली सीढ़ी से गंगा मैया के आँचल तक लुढ़का था | लेकिन वो वहीँ पर पड़ा नहीं रहा था | उठकर आया था ….मेरे से एक हाँथ सामने खड़ा था| मेरे उदास चेहरे की ओर हाँथ उठाकर हँस रहा था | वोबिलकुलमानने को तैयार नहीं था कि बनारस में ये हमारी (हम दोनों की) आखिरी शाम है | वह पहले जितना ही खुश था | वह अभी तक उछल रहा था ……सीढियाँ चढ़-उतर रहा था | मेरे लिए यह सब बहुत कठिन था | मेरा बनारस नहीं ..सब कुछ छूट रहा था | कुछ दोस्त छूट रहे थे जो रात के दो बजे घाट पर जुगलबंदी करते थे… जबअस्सी घाट समाधी सा शांत होता है और पीपल संगीत की थापे देता है | एक लड़की छूट रही थी ….जिसके कंधे पर हाँथ रख देने से बनारसी भोर की लालिमा की तरह शर्मा जाती थी | शाम की घंटियाँ …शंख..और उसके साथ लेमन टी का स्वर और चुस्कियाँ सब अलग हो रहा था | मुझे उसकी कमर कीकर्व से ज्यादा घाटों की कर्व अच्छी लगी …. यह कर्व भी सीधी से हो रही थी| यह तो बस घाटों की जिंदगी है …इनघाटों के पीछे बहुत कुछ अलग हो रहा था….. फिर भी न जाने क्यूं ये मन इतना खुश था | उसने मेरे कंधे पर हाँथ रखकरऊँगली से इशारा कर मुझे दिखाया था ….देखो यहाँ लोग नहीं….मन टहल रहे हैं…हजारों मन टहल रहें हैं….सदियों पुराने | लोग भले यहाँ से चला जाए लेकिन मन यहीं छूट जाते है | सच कहूं ..सब कुछ छूटने के साथ मेरा मन भी छूट रहा था | एक खुशहाल मन …एकबनारसी मन…जोकि यहीं का हो जाना चाहता था | शाम हो गई थी | यह मेरे मनका जन्म था…और अस्सी घाट…उसकी जिंदगी का पहला कदम | वह मुझसे गले भी मिला था | गाली भी दीथी…फिरनाव पर बैठ गया था | उसकी(मेरे मन की ) नावजिंदगीके सभी सभी घाटों से होते हुए मणिकर्णिका घाटकीओर सरक चल थी और मैं बनारस से |

मैं..बनारस हूँ

Posted By : admin/ 178 0

मैं..बनारस हूँ ! ध्यान रहें महाभारत वाला समय नहीं | मेरी अपनी घड़ी है उस ‘समय’ से बिलकुल अलग, अलमस्त सी, क्यूट सी |समय तो यहाँ दशाश्वमेघ घाट पर नहाता है फिर अस्सी घाट पर भाँग खाये पड़ा रहता है | मैंने सतयुग देखा है और तुम सबको भी देख रहा हूँ | सचमें, सतयुग के लोग जितनेअच्छे थे उतनेही तुम सब | हाँ ये बात मानता हूँ की तुम सब थोड़ा बकलोल हो लेकिन मुझे अच्छे लगते हो | येभी ध्यान रखना तुम इंसान नहीं हो ……तुम बनारसी हो और मैं भी शहर नहीं हूँ मैं बनारस हूँ | हम दोनों की परिभाषाएं नहीं हैं | मैंने कभी रिवाईटल नहीं लिया…अभी तक जवान हूँ, स्मार्ट हूँ और गुरु…. सेक्सी भी हूँ | इसलिए तो तुम जैसे न जाने कितने मेरे प्यार में बनारसी  हो गए | हाँ ये थोड़ा अलग लग रहा होगा लेकिन मेरे प्यार में लोग शायर नहीं बनारसी हो जाते हैं…….|

शुरुआतही कुछ ऐसी हुई है|

Posted By : admin/ 279 0

……शुरुआतही कुछ ऐसी हुई है| …जैसे शरीर में ढेर सारी नसें बिछी हुई है, टेढ़ी-मेढ़ी, छोटी-लम्बी, चौड़ी-संकरी और कुछ बेअंत-सी जैसे की बनारस की उलझी हुई सी सुलझी गलियां| सही कह दूँ तो शरीर में एक छोटा सा बनारस बस गया है| और इन नसों में ये गलियां बिछ गई हैं| बसइन्हीं पर भागने का मन होता है| इन में और उलझने का मन होता है| सच में ये हैं तो उलझी हुई लेकिन न जाने कौन सी सुलझन है इन गलियों में| मन करता है हृदय की सीढ़ियों पर पैर लटका के बैठ जाऊं और एक छोटी सी गंगा पैरो को भिगोती हुई बह जाए| हाँ सच में, एक छोटी-सी गंगा बह जाना चाहती है, एक छोटा सा बनारस बस गया है….. इस शरीर में| अबे! बनारस! तुम्हारे अलावा कोई शहर दिखता ही नहीं ..मानो आँखे ही बंद हो गई …बस तू है और मैं हूँ ……साले! तू शहर यागर्लफ्रेंड (?)दिल-दिमाग से उतरता ही नहीं | यारतुझेना…बस धमनियांपसंद है| शिराओं को तो तू देखना भी नहीं चाहता| न जाने कौन सी धमनियोंमें बहा चला आया मैं…और यहाँ तू मेरी धमनियों में बह गया| निकलने का नाम सुनकर ही नसें फूल जाती हैं| ….फिर भागता हूँ अपनी ही नसों में यानी तेरी ही गलियों में …टेढ़ी-मेढ़ी, छोटी-लम्बी, चौड़ी-संकरी गलियों में …बेअंत गलियों में ..कही कोई शिरा नहीं …कोई रास्ता नहीं| …फिर सिर पकड़ कर बैठ जाता हूँ| तब तक दिमाग ना….“चौक’’ बनचुका होता है| हाँभई.. तुम्हारी चौक से कम ट्रैफिक नहींहोती इस “चौक” में| वैचारिकवाहन शाय–शायनिकलते है .चीं…पों…लेकिनकमबख्त चौक की भीड़ इतनी निर्दईकी इन्हें भी नहीं निकलने देती| तब तक “छोटा सा बनारस”“चौक” के चारोऔरघूमने लगता है औरधम्म से मुझेपरिधि पर फेंक देता है| अपने ही “बनारस”में, अपनी ही “चौक” से…इतनी दूर परिधि पर ..धम्म से….ना…नाआँखे तो खुलने दे| हाँ मुझे पता है तू बहुत ढीठ है ..यहाँ परिधि है कहाँ…तूने परिधि बनाई कहाँ ……यहाँ तो सब केंद्र है..ढेर सारे केंद्र ..एक-एक व्यक्ति , एक-एक गाली, हर एक गली, एक-एक घाट सब केंद्र है| मेरेकमबख्त दोस्त ! तो मैं परिधि पर क्यूँ??